​​​​​​​||  श्री महालक्ष्मी पूजा विधि  ||


दीपावली मनाने से श्री लक्ष्मी जी प्रसन्न होकर स्थायी रूप से सद्गृहस्थ के घर निवास करती हैं। दीपावली धनतेरस, नरक चतुर्दशी तथा  श्री  श्री महालक्ष्मी पूजन, गोवर्धन पूजा और भाईदूज-इन 5 पर्वों का मिलन है। मंगल पर्व दीपावली के दिन सुबह से लेकर रात तक क्या करें कि महालक्ष्मी का घर में स्थायी निवास हो जाए..

आइए जानें विस्तार से....


1 प्रातः स्नानादि से निवृत्त हो स्वच्छ वस्त्र धारण करें। दिन में स्वादिस्ट पकवान वं मिष्ठान बनाएं ।

 

2फूल मला से घर को सजाएं। बड़ों का आशीर्वाद लें।

 

3 सायंकाल पुनः स्नान करें।

 

4  श्री महालक्ष्मी पूजा विधि लक्ष्मी जी के चित्र या मूर्ति  के सामने एक चौकी रखकर उस पर मौली बांधें।और साथ में श्री गणेश जी की मिट्टी की मूर्ति स्थापित करें। और श्री गणेश जी को तिलक कर पूजा करें।

5 अब चौकी पर छः चौमुखे व 26 छोटे मिट्टी दीपक रखें। इनमें घी -बत्ती डालकर जलाएं। फिर जल, मौली, चावल, फल, गुड़, अबीर, गुलाल, धूप आदि से विधिवत पूजन करें।

6 पूजा के बाद एक-एक दीपक घर के कोनों में जलाकर रखें।  एक छोटा तथा एक चौमुखा दीपक रखकर निम्न मंत्र से श्री लक्ष्मी जी का पूजन करें-

 

7 इस पूजन के पश्चात तिजोरी में श्री गणेश जी तथा लक्ष्मी जी की मूर्ति रखकर विधिवत पूजा करें। तत्पश्चात इच्छानुसार घर की बहू-बेटियों को रुपए दें।

8 लक्ष्मी पूजन रात के बारह बजे करने का विशेष महत्व है। इसके लिए एक पाट पर लाल कपड़ा बिछाकर उस पर एक जोड़ी लक्ष्मी तथा गणेशजी की मूर्ति रखें।

 9समीप ही एक सौ रुपए, सवा सेर चावल, गुड़, चार केले, मूली, हरी ग्वार की फली तथा पांच लड्डू रखकर  श्री लक्ष्मी-गणेश जी का पूजन करें। उन्हें लड्डुओं से भोग लगाएं। दीपकों का काजल सभी स्त्री-पुरुष आंखों में लगाएं।

10 फिर रात्रि जागरण कर गोपाल सहस्रनाम पाठ करें। व्यावसायिक प्रतिष्ठान, गद्दी की भी विधिपूर्वक पूजा करें।  रात को बारह बजे दीपावली पूजन के उपरान्त चूने या गेरू में रुई भिगोकर चक्की, चूल्हा, सिल तथा छाज (सूप) पर तिलक करें।

 दूसरे दिन प्रातःकाल चार बजे उठकर पुराने छाज में कूड़ा रखकर उसे दूर फेंकने के लिए ले जाते समय कहें 'लक्ष्मी-लक्ष्मी आओ, दरिद्र-दरिद्र जाओ'। 

इस दीवाली यह पूजन विधि अपनाये माता महालक्ष्मी जी का आर्शीवाद आप पर सदैव  बना रहेगा, इस विधिं से माता आपके घर सदैव वास करेंगी ....

 

                                 ||  शुभ दीपावली||